Bubbles Problem In urine test in hindi


जब भी किसी व्यक्ति की तबीयत खराब होती है तो डॉक्टर उसे सीधा यूरिन (पेशाब) टेस्ट करने की सलाह देते हैं। यूरिन के रंग से डॉक्टर को बीमारी की जड़ तक पहुंचने में मदद मिलती है। अगर यूरीन में दुर्गंध है, अनियमितता है या फिर झाग बन रहा है तो ये कई बीमारियों के संकेत हो सकते हैं। अगर आपको भी झाग भरा पेशाब आता है या फिर पेशाब में बुलबुले उठते हैं तो आपको वक्त रहते सावधान होने की जरूरत है। डॉक्टर्स कहते हैं कि पेशाब में झाग बनना कई बीमारियों के संकेत होते हैं। आज हम आपको बता रहे हैं कि पेशाब में किस तरह के झाग बनने पर आपको सावधान हो जाना चाहिए। साथ ही इस चीज का भी जिक्र करेंगे कि पेशाब में झाग बनने से कौन-कौन सी बीमारियों का खतरा पैदा हो जाता है।

 

  • जब भी आपको पेशाब में गहरा झाग दिखे तो आपको सावधान हो जाना चाहिए। यानि कि हल्का झाग तो हर किसी को पेशाब करते वक्त नजर आता है। लेकिन अगर आपको अपने पेशाब का रंग गहरा पीला, बदबूदार और झागयुक्त दिखे तो आपको जल्दी ही डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। कई बार ये लक्षण किडनी खराब होने के भी होते हैं। 
  • अगर आपके पेशाब करने की मात्रा घट गई है या फिर जरूरत से ज्यादा बढ़ गई है तो स्वास्थ्य के लिहाज से यह भी ठीक नहीं है। जब आप तनाव में होते हैं तो यूरिन में झाग बनते हैं। इसकी वजह है एलब्यूमिन, एक तरह का प्रोटीन जो कि यूरिन में पाया जाता है। दरअलस, ज्यादा तनाव लेने से किडनी से यह प्रोटीन लीक आउट होता है।
  • दिल से जुड़ी बीमारी होने पर भी पेशाब में कई हरकत होने लगती है। आप कह सकते हैं कि यूरिन में झाग बनने का इशारा कई बार ह्रदय की ओर भी होता है। यूरिन में प्रोटीन की ज्यादा मात्रा होने के कारण स्ट्रोक के चांस भी ज्यादा बनते है इसलिए इसे जरा भी नजरअंदाज ना करें और तुरंत किसी अच्छे डॉक्टर से इस बारे में संपर्क करें।
  • आप भी यह महसूस कर रहे होंगे कि अब पहले जितनी ठंड नहीं रह गई है। यानि कि गर्मी बढ़ने के साथ ही शरीर को अधिक पानी की मात्रा की जरूरत होती है। ऐसे में आपको अधिक पानी पीना चाहिए। क्योंकि पानी की कमी होने पर या हल्के डिहाईड्रेशन से भी पेशाब में झाग बनने लगता है। शरीर में पानी की कमी हो जाने से पेशाब गाढ़ा और बुलबुलेदार हो जाता है। डायबिटीज से ग्रस्त लोगों को डिहाईड्रेशन का खतरा ज्यादा रहता है।

  • कभी कभार, हमारी यूरिनरी में बैक्टरीया इंफेक्शन हो जाता है, जिस वजह से भी यूरिन में झाग बनने लगते हैं। यूरीन इन्फेक्शन के कारण भी पेशाब में झाग दिखता है। इस दशा में रोगाणु पेशाब के मार्ग में गैस रिलीज करते हैं जिससे बुलबुले उठने लगते हैं। ऐसी स्थिति में पेशाब करते वक्त जलन और दर्द की समस्या हो जाती है।

  • अक्‍सर गर्भावस्‍था के दौरान शरीर में कई बदलाव देखने को मिलते हैं। जैसे यूरिन में झाग बनना। ऐसा इसलिए होता है क्‍योंकि गर्भावस्‍था के दौरान किडनी को ज्यादा काम करना पड़ता है। जिसकी वजह से प्रोटीन लीक होता है और इसी वजह से यूरिन में झाग बनते हैं।
  • अगर यूरिन में प्रोटीन की मात्रा ज्यादा होती है तो इस सिचुएशन को प्रोटिनयूरिया या कहा जाता है। यह सिचुएशन इसलिए आती है, क्योंकि किडनी बेहतर तरीके से प्रोटीन फिल्टर नहीं कर पाती, ऐसी हालात में बेहतर है कि सही समय पर डॉक्टर्स से कन्सल्ट किया जाए।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Other Diseases In Hindi

(function(d, s, id) {
var js, fjs = d.getElementsByTagName(s)[0];
if (d.getElementById(id)) return;
js = d.createElement(s); js.id = id;
js.src = “http://connect.facebook.net/en_US/sdk.js#xfbml=1&version=v2.6&appId=2392950137”;
fjs.parentNode.insertBefore(js, fjs);
}(document, ‘script’, ‘facebook-jssdk’));
!function(f,b,e,v,n,t,s){if(f.fbq)return;n=f.fbq=function(){n.callMethod?
n.callMethod.apply(n,arguments):n.queue.push(arguments)};if(!f._fbq)f._fbq=n;
n.push=n;n.loaded=!0;n.version=’2.0′;n.queue=[];t=b.createElement(e);t.async=!0;
t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e)[0];s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window,
document,’script’,’https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js’);
fbq(‘init’, ‘1785791428324281’);
fbq(‘track’, “PageView”);
fbq(‘track’, ‘ViewContent’);
fbq(‘track’, ‘Search’);



Read The Source Article

We will be happy to hear your thoughts

Leave a Reply

My Blog